Thursday, January 28, 2010

दोस्ती --तमाम खूबसूरत रिश्तों में से एक रिश्ता........

दोस्त जीवन भर की उपलब्धि होता है ,जिस पर गुरुर  किया जाता है. जिस रिश्ते के साथ जी भर कर मिलना होता हो और उसके जाने पर जी न भरे उस रिश्ते को हम  दोस्ती  कहते है . इसी  वजह से  दुनिया के तमाम रिश्तों में से एक खूबसूरत रिश्ता दोस्ती का होता है . "दोस्त तो स्ट्रीट लाइट कि तरह होते है ,वे रास्ते को छोटा  नहीं बनाते ,लेकिन राह में वह रौशनी भर देते है . जिससे आपका सफ़र तय करना सहज हो जाता है . "
दोस्त बनना या बनाना हमारी व्यक्तिगत भावनाए होती है जिससे  कोई अजनबी इन्सान हमारा अच्छा साथी साबित होता है .  कोई हम उम्रर इन्सान हमारे साथ काम करता हो , पढ़  या खेल रहा हो वो दोस्त बन जाये वो  मार्गदर्शक  तो हो सकता है लेकिन जरुरी नहीं कि एक अच्छा दोस्त बने . दोस्ती के लिए समय चाहिए जिससे एक दुसरे को समझा जा सकें . हममें से ज्यादा तर लोग यह सोचते हैं कि जो इन्सान हमारी पहचान का समर्थन या सहयोग करते है वो ही हमारे सच्चे दोस्त है बल्कि मेरे हिसाब से ऐसी  बातें आत्म मोह वाली होती है .जब वक्त गुजर जाता है तब पता चलता है कि हमने दोस्त बनाने में क्या गलती कि थी . आत्म मोह वाली बातों का ध्यान रखना जरुरी होता है खास कर जब दो मेल -फीमेल दोस्त हो . एक सही दोस्त आपकी जिंदगी को बदलने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है
दोस्त बनाने के लिए हमको को न तो धर्म ,जाति देखने होते हैऔर न ही रुतबा .  दोस्ती करने में  सबसे बड़ी बात तो यह भी होती कि जन्म कुंडली मिलाने  का कोई झन्झट नहीं है .इस खूबसूरत  रिश्ते में सबसे खास बात यह भी होती  कि  लड़ाई हो जाने पर जब बिना बातचीत के नहीं रहा जाता   तो बस  हमको यह कहना होता है कि क्या बे ज्यादा दिमाग ख़राब है सॉरी बोल तो रहा हूँ देख आज तेरी वाली बड़ी अच्छी लग रही चल देख कर आते है और कुछ ऐसा  ही लड़किओं कि तरफ भी  होता है! ......फिर से दोस्ती का रंग शुरू हो जाता है ...
एक खूबसूरत कथन है," ईश्वर जब हमे अपने अनुकूल परिवार नहीं दे पाते तो वे दोस्तों को हमारी जिंदगी में भेजर  हमसे माफ़ी मांग लेते है "

मन कि बात----दोस्त नाराज हो जाये तो उसे सौं बार मनाएं क्योंकि अच्छे दोस्त ढूंढे नहीं मिलते . एक वो ही इन्सान होता है जो स्वार्थ को दर किनार करके आपसे जुड़ता है . आप दुखी होते तो दोस्त को दुःख  होता है ,जब आप हंस रहे होते तो तो वो भी आपके  साथ हँस रहा होता है .

15 comments:

सतीश सक्सेना said...

बढ़िया अभिव्यक्ति ! शुभकामनायें !!

deepak said...

Yes, i can feel your emotions. You are a good human being as well as a good friend.In fact friendship is an earning beyond carrier, I think. One cant compare it with money or position. There would be certainly few common things which makes two people friend.I dont have many numbers but some nice friends in my life including you. One more thing I must say here, when you are in trouble and a person says, ..but I am with you, it means he or she is really your frined. And if anybody says, ..I am with you but.. You must re-think about that relation as there is no end of excuses.

Anonymous said...
This comment has been removed by a blog administrator.
rajneesh raj said...

दोस्ती एक से होती है हजारों से नहीं,
दोस्ती चांद से होती है सितारों से नहीं।

rajneesh raj said...

good yaar

Babli said...

बहुत ख़ूबसूरत लिखा है आपने! दिल को छू गयी ! एक अच्छा और सच्चा दोस्त मिलना किस्मत की बात है और उस दोस्ती को उम्र भर निभाना उतना ही कठिन होता है! दोस्त एक मजबूत रिश्ते की तरह होता है जो सुख दुःख में साथ निभाता है!

ज्योति सिंह said...

दोस्ती एक से होती है हजारों से नहीं,
दोस्ती चांद से होती है सितारों से नहीं
bahut sundar post
happy holi ,kai din se idhar nazar nahi aaye

sandhyagupta said...

Aapki baat se sahmat hoon.

Babli said...

आपको और आपके परिवार को होली की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

Anonymous said...

dosti hi ek aisa sambandh hai jisme pahle se koi apekchayen aur vade nahi hote isiliye ye riste sari umra chal sakte hai jabki baki sare riste apekchaon aur ashaon se dushit hot HAI....... RAMENDRA

Anonymous said...

check out this link http://anveshchaudhary.blogspot.com/2010/04/blog-post.html

congratulation, now you are also in the elite group of blogger whose post got stolen.

Pragyan said...

Yeah...thats true

Arvind Kumar "Gaurav" said...

very nice....i simply love your post..frndship is very important to sustain balance life... nice article plz inform me when u posted next article...

manu shrivastav said...

एस दोस्ती से बड़ा कोई रिश्ता नहीं है दुनिया में
बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति

आइयेगा मेरे ब्लॉग पे भी

रवि शंकर प्रसाद Ravi Shankar Prasad said...

अच्छा दोस्त ईश्वर प्रदत्त अनुपम उपहार है...