Sunday, May 17, 2009

हाँ मैने प्यार किया है ........

हाँ मैने प्यार किया है............... । (लेखक ने नही ) यह शब्द थे एक युवती के , जिसने भरी अदालत मे अपने परिवार वालो के सामने कहे , ऐसा ही कुछ युवक ने भी कहा की हाँ हम लोग एक दुसरे को बेइंतहा चाहते है हम एक दूसरे के बिना नही जीना चाहते । युवती के परिवार वाले उस पर दबाब बना रहे थे की युवक को अपना पति मानने से इंकार कर दे। जिससे वो युवक पर अपहरण का मुकदमा लिखा देंगे और युवक सारी जिंदगी जेल की हवा खायेगा । परिवार वालों की चालाकी उसे समझ मे आ गई तो उसे भरी अदालत मे अपनी बहुत सी बाते बताई जिनसे वो गुजर रही थी और उसके bayan से एक बेगुनाह जेल जाते -जाते बचा , जो उसका पति था ।

सबसे पहले तो उन दोनों के विश्वास को सलाम । फुर्सत के लम्हों मे जब मैने सवांददाता की हैसियत से बात की to वाकई मे उनसे बात करने mae मजा आ गया । दोनों का कहना था की प्यार ,एक छोटा सा शब्द है जिसमे समाई है संसार भर की खूबसूरती । प्यार एक ऐसा एहसास है ,जिसमे जिंदगी जीने का बहाना मिल जाता है । हर इन्सान के दिल मे एहसास बसा होता है ,बस जरुरत होती है इसकी, की अपने इस एहसास को कैसे कायम रखते है । जैसे एक फूल अच्छी देखbhal से hra -bahra होता है ,उसी तरह अपनी इस भावना को संभाल कर उसे खिलने देना ही अच्छा होता हो ।

मैं तो दोनों की बातचीत या फ़िर आसपास वालो के देखकर यही कह सकता हूँ की "प्रेम का सबसे बडा गुण तो यह की वह आनंद के साथ दुख का वरण भी करता है ,क्योंकि दुख के माध्यम से ही उसे पूरी saflta मिलती है, bhawa wesh मे नही । सेवा , karm और tapasya के द्वारा जिस प्रेम का ढेर bnta है .वही प्रेम vishudh aur सफल hota hai ।

10 comments:

Shashwat Tewari,Journalist said...

bhai arun ji bahut khub bahi ,,, achacha he likhate rhiye.

ajay said...

भाई साहब आपने इस छोटे से लेख में शुरुआत बहुत अच्‍छी की, पढ़ने के बाद लगा कि आगे कोई ऐसी बात होगी जिससे लगेगा कि लड़की ने वाकई में बहुत बड़ा काम किया। माना कि उसके प्‍यार में दम है। प्‍यार सभी को जोड़ता है, लेकिन माफ कीजियेगा यहां पर लिखने में थोड़ी सी कलम डगमगा गई। अगर आप ने वो बात भी लिखी होती जो आपने अदालत से निकलने के बाद लड़का-लड़की से की, तो शायद इसमें दम आ जाता।

miracle said...

ajay ji mamla abhi adalat mai chal rha hai.maene abhi sirf ladki ke bayan par hi likha hai.likhna to abhi bahut kuchh hai. mamle par mari najar hai.achcha lga aapne miracle par dastak di.

Abhivyakti said...

Dear Nitu Bhai,

Vaakai bahut achcha prayas hai. Aapsey inspire hokey mein bhi kuch karney ki soch raha hun,

Shubhkamnaon sahit,

(Vivek)

somadri said...

prayas bahut achcha hai,

ARUNA said...

लीजिये आपने बुलाया और हम चले आये!
रही बात आपके इस पोस्ट की, लाजवाब है.....और आपने बिलकुल सही फरमाया..सेवा , कर्म और tapasya के द्वारा जिस प्रेम का ढेर बनता है .वही प्रेम विशुद्ध और सफल होता है ।

Babli said...

आपकी सुंदर टिपण्णी के लिए बहुत बहुत धन्यवाद!
बहुत बढ़िया रचना लिखा है आपने! लिखते रहिये!

महामंत्री - तस्लीम said...

प्रेम करना कोई अपराध नहीं है।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

aditi said...

Romtantik line....aapne sahi kaha ki pyar tapasya hai, aapne to dusre post mai bhi pyar ko shabadon ke moti mai piro diya hai.vaakai achacha likhte hai.lgta hai aap bhi kisi se......

sana said...

Shat pratishat sahi.bahut pyare shabad pyar ke liye....waah..rishtein to bante hi hai pyar se.aapka blog achacha lga.